Language:
English
German
French
Spenish
Italian
Russian
Russian
Italian
Spenish
French
German
English
इस पृष्ठ को अन्य भाषाओँ में पढ़ें:

हमारा उद्देश्य

Food for a day

1997 में गुफ़ा में प्रवेश करने के पूर्व मैने एक गुरु का पारंपरिक जीवन व्यतीत कियाI लेकिन तीन वर्षों एबं 108  दिनों तक गुफ़ा में मेरे एकान्तवास से एक बड़ा परिवर्तन हुआ इसने मुझे यह समझाया कि हम सभी समान हैं और किसी भी मनुष्य को अपने आगामी से अधिक ऊँचा या अधिक महान नहीं होना चाहिये मैं अपने आप को गुरू या स्वामी बिल्कुल नहीं समझता हूँ  हमारी आत्मा एवं हमारा प्रेम ही एक मात्र वस्तु है जो सर्वव्यापक रूप से हम सभी को एक समान बनाती है

मैं किसी धर्म, परम्परा या संस्कृति का अनुसरण नहीं करता हूँ  प्रेम ही मेरे लिये सब कुछ है और मैं चिकित्साओं, कार्यशालाओं एवं संगोष्ठियों के माध्यम से लोगों द्वारा अनुभव किए जा रहे भौतिक, भावनात्मक एवं आध्यात्मिक विषयों में उनके मदद के लिए अपना प्रेम बाँटना चाहता हूँ

प्रेम रोग-चिकित्सा संबंधी सर्वाधिक प्रभवकारी ऊर्जा है यह आपको अपना ह्रदय खोलने एवं इस विश्व में अधिक स्वंतत्रतापूर्वक प्रेम देने एवं ग्रहण करने में मदद करता हैI चिकित्सा सत्र , दर्शन, कार्यशालाओं को मिलने वाले अनुदान एवं मेरे द्वारा किए जानेवाले प्रत्येक कार्य, ये सभी पूर्णत: श्री बिंदु सेवा संस्थान को अर्पित किए जाते हैं श्री बिंदु सेवा संस्थान एक धर्मार्थ न्यास के रूप में पंजीकृत है और उनके द्वारा किए जा रहे प्रत्येक क्रियाकलाप एवं कार्य का उद्देश्य बच्चों एवं जरुरतमंद लोगों की सहायता करना है

मैंने अपना सारा जीवन एवं सारे क्रियाकलाप बच्चों को समर्पित कर दिया है वे इस विश्व के भविष्य हैंI बच्चों की सेवा ईश्वर की सेवा के समान है इसलिये मैंने अपनी सारी सम्पत्ति श्री बिन्दु सेवा संस्थान को उनके इस अदभुत कर्य के लिये देने का निर्णय किया मुझे दिये गये प्रत्येक डॉलर का सौवाँ भाग एवं पेनी एक अनुदान होंगे जो एक युवती या युवक के जीवन एवं भविष्य कि आशा बनेंगे मैं आपको उनके भविष्य एवं आपकी आत्मा को उज्ज्वल करने के लिये प्रेम का दीप प्रज्ज्वलित करने के लिये आमन्त्रित करना चाहता हूँ

हमलोगों को बाधाओं को तोड़्ने की आवश्यकता है और हमें एक दुसरे के पास पहुँचने से डरना नहीं चाहिये अपने प्रेम को मुक्त रूप से एक-दूसरे के पास शर्तों एवं तर्कों के बिना विचरण करने दो
मैं प्रबोधन का विक्रय करने का प्रयास नहीं कर रहा हूँ बढ्ते हुए अनुययियों से मेरा कोइ संबंध नहीं है यह मेरा तरीका नहीं है मै सिर्फ़ आपका मित्र हूँ जो आप्के साथ प्रेम का एक निकट संबंध बनाना चाहता हूँ एवं इस अदभुत ऊर्जा को आपके साथ बाँटना चाहता हूँI मैं इस संसार में सिर्फ़ प्रेम में जीने एवं प्रेम में मरने के लिये रहना चाहता हूँ मैं अपने हाथों से उन्हें गले लगाना चाह्ता हूँ जो प्रेम मे विश्वास करते हैं

………………स्वामीजी

 

 

बच्चों कि परोपकार योजनाओं कि तस्वीरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

हमारी योजनाओं में अपने दान द्वारा सहायता के लिए यहाँ क्लिक करें

 

Swami Ji's family